कांग्रेस के जख्मों पर मरहम, मिजोरम में वापसी अब आनलाइन खरीदें कार, निसान ने दिया ग्राहकों को तोहफा ‘आप’ नेता की दबंगई, पूर्व विधायक के घर पर की तोड़-फोड़ निफ्टी ने तोडा 5 वर्षो का रिकार्ड, सेंसेक्स 21326 पर बंद UPSC के छात्रों का संसद के बाहर प्रदर्शन जीत पर ज्यादा न थिरके भाजपा: नीतीश कुमार विस चुनाव में ‘कोई नहीं’ का भी हुआ इस्तेमाल ‘जनलोकपाल कानून’ के लिए कल फिर से अनसन पर अन्ना न हमें बहुमत मिला और न हम सरकार बनाएंगे: AAP सोनिया को नरेन्द्र मोदी ने जन्मदिन की दी बधाई तहलका प्रकरण: शोमा चौधरी से क्राइम ब्रांच ने की पूछताछ शेयर बाजार में उछाल, रुपया भी मजबूत स्थिति में ‘आप’ ने दोहराया टीडीपी का इतिहास दिल्ली में कांग्रेस पस्त, 'आप' मस्त मिज़ोरम पर चालीस सीटों पर वोटों की गिनती शुरू दिल्ली में झाड़ू ने पंजे को दिखाया बाहर का रास्ता मप्र, राज, छत्तीसगढ़ में खिला कमल, दिल्ली में उलझी गुत्थी!
एक साल में 20% तक रोज़गार खत्म हुए, प्रॉपर्टी बाज़ार में मंदी

 

रियल्टी सेक्टर में मंदी अब खतरनाक रूप ले चुकी है| कन्फेडरेशन ऑफ रियल एस्टेट डिवेलपर्स ऑफ इंडिया यानि क्रेडाई के मुताबिक पिछले एक साल में मंदी के कारण सेक्टर की बीस फीसदी नौकरियां खत्म हो चुकी हैं| जॉब खत्म होने के पीछे कंपनियों के पास कैश की कमी और बिक्री घटने को मुख्य कारण बताया जा रहा है| साथ ही हर साल मिलने वाले करीब 10 फीसदी नए रोज़गार भी इस साल बाज़ार में नहीं आ सके हैं|
 
क्रेडाई के मुताबिक जॉब घटने का सबसे ज्यादा असर ऑफिस जॉब्स यानि सेल्स, एडमिनिस्ट्रेशन और मैनेजमेंट सेग्मेंट पर पड़ा है| फिलहाल कंस्ट्रक्शन से सीधे तौर पर जुड़े जॉब सुरक्षित हैं, हालांकि संगठन ने आशंका जताई है कि हालात नहीं सुधरे तो कंस्ट्रक्शन सेक्टर के जॉब्स पर भी असर दिख सकता है| संगठन ने हालात सुधारने के लिए सिंगल क्लियरिंग विंडो बनाने का सुझाव दिया है| उनके मुताबिक प्रॉपर्टी कंपनियों को एक प्रोजेक्ट को पास कराने के लिए 48 तरह के नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट देने पड़ते हैं| जिसकी वजह से लगने वाला समय प्रोजेक्ट की लागत बढ़ा देता है..और कंपनियों को घाटा होता है|
 

Share this post

Submit to Facebook Submit to Google Bookmarks Submit to Technorati Submit to Twitter Submit to LinkedIn