नफ़रत उनका सियासी कारोबार है: सोनिया महाराष्ट्र में कांग्रेस-NCP को ना मिले एक भी सीट: मोदी राजनेता बने जाफरी, लखनऊ से 'AAP' ने बनाया प्रत्याशी नकवी के खिलाफ साबिर करेंगे मानहानि का केस! शर्मनाक: दिल्ली में महिला से गैंगरेप, युवतियों के अपहरण की कोशिश अब एसपी के कैराना से प्रत्याशी ने दिया विवादास्पद बयान जसवंत सिंह 6 साल के लिए बीजेपी से निष्कासित सल्लू ने की अमल मलिक की जमकर खिंचाई फिल्म हवा हवाई के लिये श्री देवी ने पार्थो को दिए टिप्स
एटीएस की कस्टडी में IM आतंकी यासीन भटकल
06 Feb 2014

 

नई दिल्ली: दिल्ली की अदालत से कस्टडी पाने के बाद मुंबई 2011 सीरियल बम ब्लास्ट के मामले की जांच कर रही महाराष्ट्र ATS ने इन्डियन मुजाहिद्दीन आतंकी यासीन भटकल को और उसके साथी आतंकी असदुल्लाह अख्तर उर्फ़ तबरेज को मकोका कोर्ट में पेश किया। कोर्ट में पेश करने के बाद ATS ने इनकी कस्टडी माँगी जिसे अदालत ने स्वीकार करते हुए दोनों को 18 फरवरी तक के लिए ATS कस्टडी में भेज दिया है।

 

आपको बता दें कि, बीते वर्ष अगस्त में आतंकी यासीन भटकल और उसके साथी असदुल्लाह अख्तर को भारत नेपाल बॉर्डर से गिरफ्तार किया गया था। गुरूवार को महाराष्ट्र ATS  ने दोनों आतंकियों को कोर्ट में पेश किया। पेशी के दौरान यासीन लगातार मुस्कुराता रहा। जज ने यासीन से जब पूछा की तुम्हे कुछ कहना है तो यासीन ने सिर हिला कर मन कर दिया। सरकारी वकील उज्जवल निकम ने बताया कि उन्होंने 14 दिनों की रिमांड मांगी थी लेकिन अदालत ने 13 दिन की रिमांड दी।

 

यासीन भटकल को मुंबई में हुए साल 2011 के सीरियल बम ब्लास्ट का प्रमूख आरोपी माना जा रहा है। अब ATS यासीन से पूछ-ताछ कर यह पता लगाने में जुटी है कि, यासीन ने किन लोगों की मदद से बम बलास्ट को अंजाम दिया था। इतना ही नहीं इस नापाक काम को अंजाम देने के लिए हवाला के जरिए 10 लाख रूपए कहां से आए। इसके साथ साथ ATS की नजरें इन्डियन मुजाहिद्दीन के स्लीपर सेल्स पर भी है। ताकि उन्हें महाराष्ट्र से उखाड़ फेका जाय।

 

एटीएस ने अभी मुंबई सीरियल ब्लास्ट मामले में यासीन की रिमांड ली है। इसके अलवा पुणे के जर्मन बेकरी और पुणे में ही 1 अगस्त 2012 में हुए बम ब्लास्ट के बारे में पूछताछ करना उससे बाकी है। आगे चलकर आईएम मामलों में भी एटीएस अदालत से यासीन और उसके साथी के पुलिस कस्टडी की डिमांड करेगी।

Share this post

Submit to Facebook Submit to Google Bookmarks Submit to Technorati Submit to Twitter Submit to LinkedIn