नफ़रत उनका सियासी कारोबार है: सोनिया महाराष्ट्र में कांग्रेस-NCP को ना मिले एक भी सीट: मोदी राजनेता बने जाफरी, लखनऊ से 'AAP' ने बनाया प्रत्याशी नकवी के खिलाफ साबिर करेंगे मानहानि का केस! शर्मनाक: दिल्ली में महिला से गैंगरेप, युवतियों के अपहरण की कोशिश अब एसपी के कैराना से प्रत्याशी ने दिया विवादास्पद बयान जसवंत सिंह 6 साल के लिए बीजेपी से निष्कासित सल्लू ने की अमल मलिक की जमकर खिंचाई फिल्म हवा हवाई के लिये श्री देवी ने पार्थो को दिए टिप्स
पीटरसन ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को कहा अलविदा, IPL में खेलेंगे
05 Feb 2014

 

नई दिल्ली/लन्दन: इंग्लैंड के विस्फोटक बल्लेबाज केविन पीटरसन ने इंटरनेशनल क्रिकेट से सन्यास ले लिया है। केविन पीटरसन ने यह फैसला उन्हें आगामी वेस्टइंडीज दौरे और उसके बाद बांग्लादेश में होने वाली विश्व टी20 चैम्पियनशिप के लिये टीम से बाहर करने के इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड के ऐलान के एक दिन बाद किया।
 
पीटरसन ने अपने टेस्ट कैरियर में 104 मैच में 47.28 की औसत से 8181 रन बनाए। जबकि, एकदिवसीय मैचों में उन्होंने 136 मैचों में 40.73 की औसत से 4440 रन बनाये। उन्होंने 37 टी20 वनडे में 1176 रन जोड़े। पीटरसन ने अपने सन्यास के एलान के बाद कहा कि, ‘देश के लिये क्रिकेट खेलना मेरे लिये सम्मान की बात रही है। मैं दुखी हूं कि यह अद्भुत सफर अब खत्म हो रहा है लेकिन पिछले नौ साल में एक टीम के रूप में हमने जो भी हासिल किया, उस पर मुझे गर्व है।’
 
पीटरसन ने आगे कहा कि, ‘मैं बहुत खुशकिस्मत हूं कि देश के सर्वश्रेष्ठ क्रिकेटरों के साथ इंग्लैंड के लिये खेलने का मौका मिला। मैं सभी को उनके सहयोग के लिये धन्यवाद देता हूं और टीम को भविष्य के लिये शुभकामना देना चाहता हूं।’
 
उन्होंने कहा, ‘मेरा मानना है कि बतौर क्रिकेटर अभी मेरे भीतर बहुत कुछ शेष है। मैं खेलता रहूंगा लेकिन खेद है कि अब इंग्लैंड के लिये नहीं खेल सकूंगा।’ कुछ क्रिकेट पंडितों का कयास है कि, पीटरसन को इंग्लॅण्ड क्रिकेट बोर्ड ने सन्यास लेने के लिए विवश कर दिया है। ज्ञात हो कि, इससे पहले एशेज दौरे पर शर्मनाक हार के बाद मुख्य कोच एंडी फ्लावर भी पद से इस्तीफा दे चुके हैं।
 
इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड के नए प्रबंध निदेशक पाल डाउनटन ने कहा कि अगले साल होने वाले विश्व कप के लिये टीम तैयार करने की प्रक्रिया में पीटरसन को बाहर करने का फैसला कठिन था। डाउनटन ने कहा, ‘सभी को पता था कि ऑस्ट्रेलिया दौरे के बाद हमें दीर्घकालिन योजना बनाने की जरूरत है।’ उन्होंने कहा, ‘यही वजह है कि हमने सोचा कि अब भविष्य की ओर देखते हुए टीम बनाना जरूरी है। इंग्लैंड क्रिकेट केविन का आभारी रहेगा जो देश के सबसे प्रतिभाशाली और रोमांचक क्रिकेटरों में से रहे हैं। उनके 13797 रन बताते हैं कि वह कितने प्रतिभाशाली हैं।’
 
एशेज श्रृंखला 2005 में इंग्लैंड की जीत के सूत्रधार रहे पीटरसन ने कुछ महीने बाद कोच पीटर मूर्स को बर्खास्त करने की मांग करके विवाद पैदा कर दिया था। मूर्स को बर्खास्त कर दिया गया और पीटरसन को कुछ समय टीम से बाहर करके फिर वापिस ले लिया गया।
 
आईपीएल में भाग नहीं लेने के ईसीबी के निर्देश की अवहेलना के लिये भी उनकी बोर्ड से ठन गई थी। उन्हें बाहर करने के फैसले पर पूर्व क्रिकेटरों ने हालांकि तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। पूर्व कप्तान माइकल वान ने कहा, ‘इंग्लैंड 5-0 से हार गया और उन्हें बलि के बकरे की तलाश थी।’ वहीं एलेक स्टीवर्ट ने कहा, ''जब हम जीत रहे थे, तब हमने कुछ नहीं सुना। जब हम हारे तो हर कोई केपी पर ऊंगली उठा रहा है जो अनुचित और अन्यायपूर्ण है।’

Share this post

Submit to Facebook Submit to Google Bookmarks Submit to Technorati Submit to Twitter Submit to LinkedIn